Sunday, February 8, 2015

ईश्वर जो करता है अच्छे के लिये करता है


कई बार हमें बहुत दुख मिलते हैं, बहुत ज्यादा परेशानी मिलती हैं और हमें लगता है की ईश्वर हमें दुख दे रहा है। पर सच तो ये होता है कि हम ईश्वर को समझ ही नहीं पाते, शायद वो हमें थोड़ा सा दुख दे कर किसी बहुत बड़ी परेशानी से बचा लेता है।



एक लड़का और एक लड़की एक दूसरे से बहुत प्यार करते थे। लड़की का ईश्वर में बहुत विश्वास था। लड़की और लड़के में कौन किसे ज्यादा प्यार करता है ये कहना मुश्किल था। उन दोनों ने जल्द ही शादी करने का फैसला कर लिया था। वो दोनों बहुत खुश थे कि ईश्वर ने उन्हें मिलाया। उन दोनों ने मिलकर ये निर्णय लिया कि वे अपने घर पर एक-दूसरे से शादी करने के बारे में बात करेंगे।

एक दिन निश्चित करके उन दोनों ने घर में बात करने की सोची। किन्तु होनी को कुछ और ही मंजूर था। जिस दिन उन्हें घर पर बात करनी थी उस दिन लड़के की मम्मी की तबीयत खराब होने की वजह से वह बात नही कर पाये। इस बात से लड़की को बहुत दुख हुआ। उसने ईश्वर से कहा कि ये मेरे साथ ही ऐसा क्यों हुआ। मैं उससे बहुत प्यार करती हूँ। और मैं उससे शादी करना चाहती हूँ।

वक्त बीता और उन दोनों ने अपने-अपने घर पर एक-दूसरे के बारे में बता दिया। लेकिन ईश्वर को क्या मंजूर था ये कहना मुश्किल है। ये बात सुन कर दोनों ही परिवार में तनाव हो गया। सब कुछ ठीक होने के बावजूद भी दोनों परिवारों को ये रिश्ता मंजूर नहीं था। घर वालों की भी कुछ  इच्छायें थी वे भी अपने बच्चों की शादी अपनी मर्जी और अपनी पसंद से करना चाहते थे।

लड़की को इस बात का बहुत दुख हुआ। वह बार-बार, रो-रो कर ईश्वर से बस ये ही प्रश्न कर रही थी कि उसे इतना दुख क्यों मिल रहा है। उसने ईश्वर से कहा कि अगर उसकी शादी उस लड़के से नहीं हुई तो वह कभी भी ईश्वर को नहीं मानेगी। वह लड़की बहुत रात तक रोती रही। और उसे कब नींद आ गई उसे पता भी नहीं चला।

ईश्वर शायद लड़की को कोई संकेत देना चाहते थे। लड़की को एक सपना दिखता है जिसमें वह मंदिर जाती है वहाँ ईश्वर के सामने खड़ी हो कर रो रही होती है। और पूछती है कि उसके साथ ये सब क्यों हो रहा है। तभी उसके पीछे से आवाज आती है कि क्या हुआ बेटी ? लड़की पीछे मुड़ती हैं तो देखती है कि एक बाबा है जिन्होंने श्वेत वस्त्र धारण किये हुए हैं उनके चेहरे पर सूर्य के जैसी चमक है तभी लड़की के कानों में उनकी आवाज आई, क्या हुआ बेटी? लड़की जोर-जोर से रोते हुए कहा कि बाबा  मैं एक लड़के से बहुत प्यार करती हूँ किन्तु मेरे परिवार वाले नहीं चाहते कि ये शादी हो। बाबा मैं भगवान को बहुत मानती थी, किन्तु अब मेरा विश्वास उठ गया है।  बाबा मैंने कभी भगवान से कुछ नहीं मांगा सिर्फ उस लड़के को मांगा है। मैं भगवान को इतना मानती हूं वह फिर भी मुझे इतना  दुख दे रहा है। बाबा बोले बेटी ये तो अपना नजरिया है। क्या पता ईश्वर तुम्हे थोड़ा सा दुख दे कर किसी बड़े दुख से बचा रहा हो। लड़की बोली की मुझे इसके अलावा कोई दुख नहीं है। बाबा बोले कि बेटी आज न सही क्या पता किसी आने वाले दुख से बचा रहा हो। लड़की बोली की बाबा मुझे आगे का नहीं पता पर मैं अभी उसके बिना नहीं रह सकती। बाबा बोले बेटी क्या पता तुम उसके साथ न रह पाओ। लड़की बोली की बाबा आप ये क्या कह रहे हो? मुझे कुछ नहीं पता। मैं बस उससे शादी करना चाहती हूँ, अगर मेरी शादी उस लड़के से नहीं हुई तो मैं भगवान का नाम तक कभी अपनी जुबान पर नहीं लुंगी। बाबा ने कहा कि ठीक है बेटी जैसा तुम चाहो वैसा ही होगा। 

लड़की की आँखें खुली तो उसकी मम्मी नाशता ले कर उसके सामने खड़ी थी। लड़की मम्मी को देख कर रोने लगी और नाशता करने से मना कर दिया। कई दिन ऐसे ही बीत गये थे। मम्मी तो आखिर मम्मी ही होती है। उनसे अपनी बेटी का दुख देखा नहीं गया और उन्होंने लड़की के पापा से बात की। फिर लड़की के मम्मी पापा ने ये निर्णय लिया कि जब लड़के का धर्म एक है और लड़के का परिवार भी ठीक है तो शादी कर देनी चाहिए।लड़की ने जब सुना तो वह बहुत खुश हुई।  उसे तो जैसे उसकी जिंदगी मिल गई हो। लड़की के मम्मी पापा ने लड़के के मम्मी पापा से बात की और उन्हें समझाया फिर लड़के के मम्मी पापा भी रिश्ते के लिए मान गए। लड़की बहुत खुश थी उसका विश्वास ईश्वर में और बढ़ गया। वह बार बार ईश्वर का धन्यवाद कर रही थी। खैर वक्त बीता और उन दोनों की शादी हो गई।

शादी के बाद लगभग साल भर तक सब  ठीक रहा। वह दोनों बहुत खुश थे। सब कुछ अच्छा चल रहा था। लेकिन जैसे जैसे वक्त बीतता जा रहा था वैसे वैसे उनके रिश्ते की मजबूती कम होती जा रही थी। वह छोटी छोटी बातों को लेकर लड़ने लगे। उनकी कोई भी बात आपस मे मेल नहीं खाती थी। और इससे भी बड़ी बात यह थी कि शादी के बाद उन दोनों को एक दूसरे को खोने का डर निकल गया था तो वह अब एक दूसरे को मनाने की कोशिश भी नहीं करते थे। लड़की को लगने लगा था कि लड़का वैसा भी नहीं है जैसा वो सोचती थी, वह खुद से ही सवाल करती की कहीं उसने शादी करके कोई गलती तो नहीं कर दी। वह शादी से पहले लड़के को बहुत  ज्यादा अच्छे से भी तो नहीं जानती थी बस कभी कभी मिलना, घूमना फिरना और बस ऐसे ही प्यार हो गया था । खैर अब जो भी  था जिंदगी तो बितानी ही थी।

एक दिन लड़की को बहुत दिनों बाद उसकी एक सहेली मिली। उसने बातों ही बातों में लड़के के बारे में बताया कि उस लड़के की जिंदगी में पहले भी कोई लड़की थी। लड़की को ये सुन कर बहुत दुख हुआ। क्योंकि लड़के ने इस बारे में कभी कुछ नहीं बताया था। धीरे धीरे जैसे वक्त बीतता जा रहा था वैसे वैसे लड़की को उसके बारे में कुछ नया पता चलता जा रहा था। लड़की जब भी लड़के से इन बातों के बारे में कुछ पूछती तो लड़का कुछ भी ढंग से नहीं बताता।  बल्कि फिर उनकी लड़ाई हो जाती और लड़का, लड़की को मनाने की कोशिश भी नहीं करता था। लड़की को अब  उसके साथ रहना मुश्किल लग रहा था। अब लड़की को वो सपने वाले बाबा की एक एक बात याद आ रही थी तो वह किसकी गलती बताये? खुद की? किस्मत की? या फिर भगवान की? किन्तु भगवान ने तो उसे एक संकेत दिया था। पर उसकी आँखों पर प्यार का पर्दा पडा था। शायद उस वक्त भगवान मुझे इसी दुख से बचना चाहते थे। पर मैं ही उनका इशारा नहीं समझ पाई। लेकिन वह अब कर  ही क्या सकती थी सिर्फ़ रोने के सिवा।



हम सब ईश्वर के बच्चे हैं वो हर हाल में हमारे साथ रहता है। ईश्वर बाद में भी उस लड़की को सम्भाल ही लेंगे। ईश्वर हमारे साथ कभी कुछ गलत नहीं करता पर क्या हम  उसके लिए कुछ करते हैं? हम ईश्वर को कभी नहीं समझ सकते। हमें समझनी चाहिये तो सिर्फ एक बात की ईश्वर जो करता, सिर्फ अच्छे के लिये करता है।



No comments:

Post a Comment