Thursday, December 12, 2013

जिसे भी चाहता हूँ मैं

 
जिसे भी चाहता हूँ मैं, बस टूट कर चाहता हूँ। 
फिर होता है ये कि, मैं खुद टूट जाता हूँ।
अगर कभी दिल करता है कि कोई मनाये मुझे,
मैं खुद से ही लड़ता हूँ और रूठ जाता हूँ।
सपने में भी आये कोई, अब ये गवारा नहीं मुझे, 
मैं बस तेरा दीदार पाना चाहता हूँ।
यूँ तो पता है मुझे कि तू मेरी कभी हो नहीं सकती, 
पर फिर भी मैं बस तुझे अपना बनाना चाहता हूँ

 

Thursday, November 28, 2013

दिल मेरा परेशान क्यों

दिल मेरा परेशान क्यों, जाने क्या हुआ है इसे 
क्यों है ये खोया खोया, हुआ है क्या आज इसे
काश के, लग जाये गले कोई और ये कहे.…
तू गम ना कर, साथ हूँ मैं सदा तेरे

दिल मेरा परेशान क्यों, जाने क्या हुआ है इसे 
क्यों है ये खोया खोया, हुआ है क्या आज इसे 

रो लूं मैं पल दो पल, हो जाये अगर ये गम कम,
पर न जाने क्यों, लगता है यूं, कोई नहीं है मेरा
मैं तन्हा हूँ, बहुत तन्हा हूँ मैं, 
हंस लू मैं भी अगर, मिल जाये प्यार तेरा 

दिल मेरा परेशान क्यों, जाने क्या हुआ है इसे 
क्यों है ये खोया खोया, हुआ है क्या आज इसे

Wednesday, November 13, 2013

मेरी मोहब्बत कि

मेरी मोहब्बत कि बस इतनी सी कहानी रही
उसकी याद ही मेरी सारी जिंदगानी रही 
कभी रो लिया, कभी लिख लिया, कभी गा लिया
बस यूं ही  बर्बाद मेरी जवानी रही 
जाते हुए वो मेरी आँखों में आंसू दे गयी 
मेरे पास उसकी बस एक ये ही निशानी रही

Tuesday, September 17, 2013

अगर तुम्हे भी हमसे मोहब्बत हो जाती

अगर तुम्हे भी हमसे मोहब्बत हो जाती 
मेरी जिंदगी बस यूं ही संवर जाती
अगर हो जाती तुम्हे पाने की तमन्ना पूरी 
फिर जन्नत की तमन्ना भी मुझे नहीं होती 
मिलते बिछड़ते ही रहते है लोग जिंदगी में 
बस एक तुम्हे पाने की खुवाहिस पूरी नही होती 
अगर मिल जाता तेरा साथ जिंदगी भर के लिए 
तो मुझे जीने के लिए साँसों की भी जरुरत नहीं होती

Thursday, August 1, 2013

ऐ मेरे हमसफ़र

मुझे लिखना तो नहीं आता पर पहली बार एक गाना लिखा है, पता नहीं किसी की समझ में आएगा भी या नहीं।

ऐ मेरे हमसफ़र, तन्हा मुझे छोड़कर 
कहीं दूर ना जा, कहीं दूर ना जा.………… 
बता मुझे ऐ-जान-जिगर,
कोई कसूर मुझसे हुआ हो अगर

पर ऐ मेरे हमसफ़र, तन्हा मुझे छोड़कर,
कहीं दूर ना जा, कहीं दूर ना जा.…………. 

तू जो कहती अगर, मर भी जाता मगर,
मुझे जीना तेरे साथ है.…… 
मैं चाहू तुझे, तू चाहे मुझे,
फिर चाहे दिन है, या रात है,
पर ना दिखा ये बेरुखी, मेरा दिल यूँ तोड़ कर,

पर ऐ मेरे हमसफ़र, तन्हा मुझे छोड़कर,
कहीं दूर ना जा, कहीं दूर ना जा.………. 
ऐ मेरे हमसफ़र, तन्हा मुझे छोड़कर,
कहीं दूर ना जा, कहीं दूर ना जा.……….
कहीं दूर ना जा, कहीं दूर ना जा.……….

 

Thursday, July 25, 2013

क्या पता था मुझे

किसी ने जिंदगी में पहली बार मेरे लिए कुछ लिखा है.………… 

क्या पता था मुझे एक अजनबी  इतना ख़ास होगा 
उसके दूर होना रास ना होगा,
इस दिल-औ-जहां मैं बस गयी है तस्वीर उनकी 
और उनके बिना जीना अब गवारा ना होगा
________________________________

किस्मत से अपनी सिकायत मुझको है 
वो नहीं मिला जिसकी चाहत मुझको है 
कितने शख्स इस महफ़िल में हैं, 
मगर वो नहीं है जिसकी चाहत मुझको है 
________________________________


Tuesday, July 23, 2013

काश कभी वो

बदलाव  जिंदगी में जरूरी तो है किन्तु कई बार ये बदलाव रिश्तो में दूरी पैदा कर देता है। बदलो तो सिर्फ अपने लिए, ना की अपनों के लिए। इस बात का हमेशा ध्यान रखो की हमारी कोई बात या आदत अपनों को दुःख तो नहीं पहुंचाती ?

काश कभी वो ख्वाबो में आया तो होता,
प्यार झूठा ही सही मगर जताया तो होता। 
इतना चाहने के बाद भी अगर दर्द मिलता है,
तो काश के खुदा ने दिल बनाया ना होता।
हम तो खुद चले जाते उनकी दुनिया से दूर,
पर कभी दूर जाने का कारण बताया तो होता।
वो भी रो पड़ते मेरे दिल का हाल जान कर,
बस एक बार आँखों से दिल में उतर के आया तो होता।

Sunday, July 21, 2013

दिल धड़कने लगा है

हम किसी से प्यार करे इससे ज्यादा अच्छा एहसास इस बात का होता है की कोई हमें प्यार करे।

दिल धड़कने लगा है फिर से सीने में
मज़ा सा आने लगा है अब जीने में
मिल जाये अगर साथ किसी का हर कदम पर
तो पता भी न चले किसी दुःख को सहने में
जब समझ लेती है वो आँखों की जुबान
तो क्या रखा है लफ्जों से कुछ कहने में

Wednesday, July 10, 2013

मौसम और इंसान

इंसान और मौसम दोनों एक से होते हैं, कुछ वक़्त बाद दोनों बदल जाते है। मौसम बदलता है तो अच्छा भी लगता है लेकिन इंसान बदलता है तो बिलकुल भी अच्छा नहीं लगता। 
पर अगर किसी को एहसास  ही न हो की हमारे बदलने से किसी को कोई फर्क पड़ता है, तो ऐसे लोगो के लिए खुद को भी थोडा बदल लेना ही बेहतर होता है…। 
 
मैं भी जिंदगी में खुशियाँ पाना चाहता हूँ,
बैठ कर अकेले में कुछ देर रोना चाहता हूँ।
जब तक खुली है आँखे, दुःख ही मिलेंगे,
अब बंद करके आँखे, मैं सो जाना चाहता हूँ।
अगर सब होना चाहते है दूर मुझसे,
मैं भी सबसे दूर हो जाना चाहता हूँ। 
जब बदल जाते हैं लोग यहाँ मौसम की तरह,
मैं भी अब सब की तरह बदल जाना चाहता हूँ।

Tuesday, June 25, 2013

मैंने लोगो को अक्सर

प्यार को लेकर हर किसी को मैंने दुखी ही देखा है। मेरे मन में एक सवाल है जो हमेशा दुःख देता है की जिसे हम प्यार करते है तो बदले में उससे उतना प्यार हमें क्यों नही मिलता ?? आखिर क्यों किसी को अपनी जान से ज्यादा चाहने पर भी उसके दिल में हमारे लिए प्यार पैदा नहीं होता ????? 

मैंने लोगो को अक्सर बदलते देखा है,
टूटते देखा है फिर उन्हें संभलते  देखा है।
कोई नहीं निभाता हमेशा साथ किसी का,
मैंने हर किसी को रिश्तो में जलते देखा है।
कांटो भरा सफ़र है ये प्यार का बंधन,
फिर भी लोगो को मैंने इस राह पर चलते देखा है। 
मैं रोता हूँ किसी के लिए, वो रोता है किसी और के लिए,
बस इसी तरह सबको आंसुओ में पिघलते देखा है।



Monday, June 24, 2013

एक लड़की है

मैंने आज तक जो भी लिखा है सिर्फ उसे ध्यान में रखकर लिखा है जिसे मैं प्यार करता हूँ, पर आज मैंने उसके लिए लिखा है जो मुझसे प्यार करती है। जब हमें प्यार नहीं मिलता तो हमें बहुत दुःख होता है, तो उसे भी दुःख होता होगा जो हमसे प्यार करता है और उसे हमारा प्यार नहीं मिलता। 

एक लड़की है नटखट सी, मुझसे लड़ती रहती है,
पागल, उल्लू, नालायक मुझे कहती रहती है।
उसके साथ रहकर मैं हर दर्द भूल जाता हूँ,
वो बस हमेशा साथ रहे दिल में दुआ रहती है।
अगर वो न होती तो दिल ऐसे ही तड़पता रहता, 
अब तो वो भी मेरे दिल में ही कहीं रहती है।
खुदा करे कभी दुःख न मिले उसे मेरी वजह से, 
वो खुश रहे दिल में बस अब ये तमन्ना रहती है। 

Sunday, June 23, 2013

कभी कभी

कई बार हमारा मन उदास हो जाता है बिना किसी वजह के या कह लो वजह तो होती है पर हम शायद खुद भी नहीं समझ पाते की हम क्यों उदास है,  बस एक दर्द उठता है दिल में जो जीने नहीं देता, उस वक़्त किसी की कमी महसूस होती है जो हमें समझ सके। 

कभी कभी इस दिल के साथ ऐसा भी हो जाता है, 
किसी अपने के हाथो टूट कर बिखर जाता है।
उस वक़्त कमी महसूस होती होती है फिर किसी की,
पर जो अपना नहीं होता वो लौट कर कहाँ आता है।
मत चाहो किसी को इतना की उसके बिना रह न पाओ,
एक  तरफ़ रहने वाला प्यार बस दर्द ही लाता है।
दिल कर रहा है आज रो कर निकाल दूं उसे दिल से बहार,
पर जो दिल में रहता है वो दिल से कहाँ निकल पाता है।

Wednesday, June 19, 2013

चाहत

हमें सबसे ज्यादा ख़ुशी और गम शायद प्यार को लेकर ही होता है, जिसे हम प्यार करते है अगर वो भी हमें प्यार करे तो इससे ज्यादा ख़ुशी की बात कोई नहीं होती और अगर प्यार एक तरफा हो तो इससे ज्यादा दुःख भी कोई नहीं होता क्युकी अगर कोई प्यार करने वाला हमारे साथ है तो हर दुःख और परेशानी का हम आराम से सामना कर सकते है.......

थाम लो हाथ उसका जो तुम्हे चाहता है
जिंदगी में ऐसा मौका फिर कहा आता है
आज कल प्यार में सिर्फ धोखा ही रह गया है
जिसे मिला प्यार वो खुशकिस्मत कहलाता है
जिन्हें प्यार नहीं मिलता कोई उनके दिल से पूछे
वो अपना वक़्त तन्हाइयो के साथ बिताता है
मैं तो कर दू जिंदगी भी फ़ना मोहब्बत के नाम पर
लेकिन किसी को मुझ पर प्यार ही नहीं आता है

Wednesday, June 12, 2013

ख्वाइश और तमन्ना

हर कोई पैसे कमाने के पीछे पड़ा हुआ है और शायद कमाता भी अपनों के लिए ही है, पर ऐसे कमाने से क्या फायदा जो अपनों को ही अपनों से दूर कर दे। पैसा तो शायद जिंदगी में फिर भी मिल जायेगा पर गुजरा हुआ वक़्त कभी नहीं मिलेगा … इसलिए अपनों के लिए हमेशा वक़्त निकलना चाहिए।

ख्वाइशो से भरी है जिंदगी 
तमन्नाओ से भरे हैं हर पल 
बस कुछ पाने की चाहत में 
बीत जाता है हमारा आज और कल 
अब वक़्त नहीं है किसी के पास किसी के लिए
ख्वाइशो में हर कोई भाग रहा है 
अपने सपनो को पूरा करने के लिए 
अब हर इंसान रात-दिन जाग रहा है 
ख्वाइशो के आगे हर कोई मजबूर हो गया है 
अपनों से तो बहुत दूर हो गया है 
पैसे के सब रिश्ते यहाँ, गरीब का कोई मोल नहीं 
इस पैसे से इंसान को कितना गुरूर हो गया है 

Tuesday, June 4, 2013

ये जो रिश्ता है हमारा


प्यार का रिश्ता एक ऐसा रिश्ता है जिसे करना तो आसान होता है पर प्यार को पाना और निभाना बहुत मुश्किल है…. हमेशा साथ रहना ही प्यार नहीं होता बल्कि प्यार का मतलब तो ये होता है की हमारे दिल में हमेशा प्यार का एक एहसास रहे, एक दुसरे की ख़ुशी का ध्यान रहे…

ये जो रिश्ता है हमारा 
थोडा तुम निभा लेना 
थोडा हम निभा लेंगे 
तुम हमें अपना बना लेना 
हम तुम्हे अपना बना लेंगे 
झगड़ेंगे, लड़ेंगे और रूठ जायेंगे 
बस कभी तुम मना लेना 
कभी हम मना लेंगे 
जो होगा नशीब में मिल ही जायेगा 
बस थोड़े खवाब तुम सजा लेना 
थोड़े हम सजा लेंगे

Monday, June 3, 2013

यहाँ है ही कौन

हर कोई प्यार का भूखा होता है, सब चाहते हैं की काश कोई ऐसा हो जो हमें बहुत प्यार करे…हमारे  दुःख में दुखी हो और ख़ुशी में खुश…. जो हमरे दुःख को बिना कहे ही महसूस कर सके, पर ऐसा चाहने वाला हर किसी को नसीब नहीं होता…अगर आपका कोई ऐसा चाहने वाला है तो उसे कभी दुःख न पहुँचाना।

यहाँ  है ही कौन जो हमेशा साथ निभाता है
पल भर में हर रिश्ता बिखर जाता है 
जिन पर होता है भरोशा खुद से भी ज्यादा 
वो इंसान भी कुछ वक़्त में बदल जाता है 
खुशियों में तो साथ हर कोई निभा देता है 
गम में तो आंसू भी साथ छोड़ जाता है 
जो बसते हैं दिल में धड़कन की तरह 
वो ही अश्क बनकर आँखों से निकल जाता है

Thursday, May 30, 2013

प्यार ना करना

ऐ दिल तू अब फिर किसी का भरोशा ना करना 
जो तेरा न हो उसे पाने की दुआ ना करना 
यहाँ होता नहीं हर कोई किसी का 
तू भी किसी के लिए खुद को बेक़रार ना करना 

अपना बना कर सब साथ छोड़ देते है 
तू भी अब किसी का इंतज़ार ना करना 
अब नज़र नहीं आती है मोहब्बत किसी में 
तू भी अब किसी से प्यार ना करना

Wednesday, May 29, 2013

मुझे फर्क नहीं पड़ता

चली जाना तुम, मुझे फर्क नहीं पड़ता 
बस दिल उदास रहेगा तुम बिन 
पर चली जाना तुम, मुझे फर्क नहीं पड़ता 

क्या होगा बस कुछ दिन आंसू बहा लूँगा 
पर चली जाना तुम, मुझे फर्क नहीं पड़ता 

दिल की धड़कने बस थम सी जाएँगी 
पर चली जाना तुम, मुझे फर्क नहीं पड़ता 

दिन उदासी में कटेगी और रात यादो में 
पर चली जाना तुम, मुझे फर्क नहीं पड़ता 

कोई नहीं मरता किसी के बिना, मैं भी जी ही लूँगा 
जाओ चली जाना तुम, मुझे फर्क नहीं पड़ता 

जाओ जाओ जाओ , चली जाओ
मुझे फर्क नहीं पड़ता, कोई फर्क नहीं पड़ता

प्यार करता हूँ


हाँ मैं बस तुझसे ही प्यार करता हूँ
हाँ मैं बस तुझसे ही प्यार करता हूँ
ना तेरे आने की ही है कोई उम्मीद 
ना तेरे जाने का ही पता है 
फिर भी मैं तेरे इंतज़ार बार बार करता हूँ 
हाँ मैं बस तुझसे ही प्यार करता हूँ

मेरी धड़कने लेती है बस एक नाम तेरा 
तेरी यादो में ही दिन गुज़र जाता है 
एक बार लगाना चाहता हूँ तुझे गले से 
बस एक ही तमन्ना बार बार करता हूँ 
हाँ मैं बस तुझसे ही प्यार करता हूँ
हाँ मैं बस तुझसे ही प्यार करता हूँ

Monday, May 27, 2013

काश तुम हमसे

काश तुम हमसे मोहब्बत कर लेते 
अपना दिल चाहत से भर लेते 
जैसे तड़पते है हम आपकी यादो में 
काश आप भी थोडा सा तड़प लेते 
काश तुम हमसे मोहब्बत कर लेते 

यूँ अकेले तन्हा क्या करोगे जी कर 
हमें ही अपना हमसफ़र चुन लेते 
जब मोहब्बत करनी ही थी किसी से 
तो बस हमसे ही कर लेते 
काश तुम हमसे मोहब्बत कर लेते 

सिर्फ आपको चाहते रहते हैं हम 
बस आपके लिए ही जी लेते 
कभी जो रूठ जाती प्यार से तुम 
हम तुम्हे उतने ही प्यार से मना लेते 
काश तुम हमसे मोहब्बत कर लेते 

Sunday, May 26, 2013

मोहब्बत की है

जितनी मोहब्बत की है हमने उससे
काश पत्थर की मूरत से की होती 
उस पर पड़ता नहीं मेरी मोहब्बत का असर 
पत्थर  की मूरत तो अब तक पिघल चुकी होती 
नहीं है उसके दिल में मोहब्बत मेरे लिए 
वरना हमारी दुनिया भी संवर चुकी होती 
एक उसकी याद ही है जो हमें जिन्दा रखती है 
वरना इस जिस्म से रूह कब की निकल चुकी होती

Thursday, May 23, 2013

बस उसकी याद रहे

चाहे हम दूर रहे या फिर पास रहे
प्यार का बस दिल में एहसास रहे
जब भी याद आये हमें प्यार की
ऐसा लगे की वो हमेशा ऐसे ही साथ रहे
दूरियों से प्यार मिटता नहीं कभी
बस दोनों के बिच हमेशा एक विश्वास रहे
अगर मर भी जाये हम अकेले तो...
बस उसकी याद रहे.... बस उसकी याद रहे...

Friday, May 17, 2013

हम जैसा अगर मिल जाये कोई

हम जैसा अगर मिल जाये कोई, तो हमें बता देना 
बिन बोले तुम्हारी बात समझ जाये, तो हमें बता देना 
जिंदगी में लोग तो मिलते हैं और बिछड़ जाते है
हम सा पागल चाहने वाला मिल जाये, तो हमें बता देना 
बहुत से मिलेंगे दुःख में साथ निभाने वाले
पर तुम्हारे साथ रोने वाला मिल जाये, तो हमें बता देना 
जिसे चाहो तुम वो सदा साथ रहे तुम्हारे, 
पर अगर पाओ खुद को फिर भी तन्हा, तो हमें बता देना 
हमें तो मोहब्बत थी और हमेशा ही रहेगी तुमसे 
गर तुम्हे भी हो जाये मोहब्बत हमसे, तो हमें बता देना  

Wednesday, May 15, 2013

अपना बना ले

या तो तन्हा छोड़ मुझे या फिर अपना बना ले 
रूठा हुआ हूँ मैं, तू आ कर मुझे मना ले 
तेरी याद को कभी मैं दिल से जुदा न कर पाया 
तू भी मेरी याद को अपने दिल में कही बसा ले 
मेरी धड़कने लेती है बस एक नाम तेरा 
तू भी मुझे अपने जेहन-ओ-जिगर में सजा ले 
ऐ खुदा फिर बेसक तू मुझे मौत ही दे देना 
बस एक बार गर वो मुझे गले से लगा ले 

Sunday, May 12, 2013

दिल करता है

 कभी कभी यूं ही आंसू बहाने को दिल करता है 
किसी को गले से लगाने को दिल करता है 
कोई हो अगर प्यार से मानाने वाला मुझे 
तो कुछ पल उससे रूठ जाने को दिल करता है 
जिसे चाहते हैं वो मिल नहीं सकता कभी
फिर भी उसे ही अपना बनाने को दिल करता है 

Sunday, April 28, 2013

वक़्त के हाथो

वक़्त के हाथो मैं कितना मजबूर हो गया 
ना चाहते हुए भी मैं उससे दूर हो गया 
पल पल चाहा है उसे अपनी साँसों से ज्यादा 
जब बिछड़ा उससे तो मैं चूर हो गया 
जब से मिला हूँ उससे मैं खुद का भी नहीं रहा 
जबकि मेरा हर लम्हा उसका जरूर हो गया 
हर पल दिल में एक कसक सी रहने लगी 
उसे चाहना मेरा सबसे बड़ा कसूर हो गया 

Wednesday, April 17, 2013

मुझे उस शख्स से

मुझे उस शख्स से इतना प्यार क्यों है
उस पर खुद से भी ज्यादा ऐतबार क्यों है 
जब वो बसी ही है मेरे दिल के हर कोने में 
फिर धड़कने उससे मिलने को बेक़रार क्यों है 
यूँ तो अकेले भी कट ही जाता है ये तन्हा सफ़र 
फिर उसके साथ चलने का मुझे ऐतबार क्यों है 
जनता हूँ वो मेरे मुकददर में ही नहीं हैं 
फिर भी बस एक उसी का इन्तेजार क्यों है 

Tuesday, April 16, 2013

ऐ मेरे सनम

ऐ मेरे सनम मुझ पर ये एहसान कर दे 
प्यार दे या नफरत, कुछ तो मेरे नाम कर दे 
बिन तेरे मुझसे अब जिया नहीं जाता 
एक बेनाम सी मोहब्बत मेरे नाम कर दे 
मेरा दिल तो धड़कता है बस तेरे लिए ही 
तू भी अपनी कुछ धड़कन मेरे नाम कर दे 
ले ले मुझसे जिंदगी भर साथ निभाने का वादा 
अगर अपना कुछ वक़्त ही तू मेरे नाम कर दे

Sunday, April 14, 2013

जब जाऊंगा इस दुनिया से

जब जाऊंगा इस दुनिया से, कुछ ऐसा कर जाऊंगा
हर एक आँख में आंसू, लब खामोश कर जाऊंगा
उस वक़्त याद आयेगी उसे मेरी हर एक बात 
जब उसे हमेशा के लिए तन्हा कर जाऊंगा 
याद आएगा मेरे साथ गुजरा हुआ हर एक पल 
मैं उसका दिल कुछ ऐसा बेक़रार कर जाऊंगा 
तरसेगी वो भी एक दिन मेरी मोहब्बत पाने के लिए 
जाने से पहले उसके दिल में इतना प्यार भर जाऊँगा 

Wednesday, April 10, 2013

मोहब्बत है या नहीं

मोहब्बत है या नहीं हमसे बस इतना बता दो 
मेरे बेचैन दिल को अब तुम ही समझा दो 
दर्द होता है प्यार में ये जानते हैं हम 
बस अब तुम ही इस दर्द की कोई दवा दो 
मिलने को तो तुम्हारा दिल नहीं करता हमसे
पर ख्वाबो में भी ना आओ इतनी ना सजा दो 
मंजिल मुश्किल ही सही पर मिल ही जाएगी 
अगर साथ चलने का तुम अपना वादा निभा दो 

Tuesday, April 9, 2013

प्यार में पाया कुछ नहीं, खोया बहुत है

प्यार में पाया कुछ नहीं, खोया बहुत है
याद करके उसे ये दिल रोया बहुत है 
प्यार होता ही है सिर्फ दर्द देने के लिए 
हमने अपने दिल को ये समझाया बहुत है 
इतने दर्द के बाद भी चाहता हूँ बस उसी को 
जबकि उस शख्स ने हमें रुलाया बहुत है 
कैसे भूल जाऊ मैं अपनी चाहत को 
मेरे दिल ने बस एक उसे चाहा बहुत है  

Thursday, April 4, 2013

मेरी मोहब्बत

मिटा नहीं पाया कभी अपने दिल से उसकी मोहब्बत
लगता है ये काम वो खुद ही कर जाएगी 
मैं तो टूट कर फिर भी संभल ही जाऊंगा 
वो जो टूटेगी तो फिर जुड़ न पायेगी 
मिल ही जायेंगे उसे बहुत से चाहने वाले 
पर वो मेरी जैसी मोहब्बत कहाँ से लायेगी 
बन जायेंगे बहुत से उसे अपना कहने वाले 
पर उनके बीच में भी वो खुद को अकेला ही पायेगी 
इतना तो यकीन है मुझे अपनी मोहब्बत पर 
जब भी होगी वो तन्हा तब उसे बस मेरी याद आयेगी 

Wednesday, April 3, 2013

ऐ मेरी मोहब्बत

ऐ मेरी मोहब्बत आ तुझे गले से लगा लू
नज़र न लग जाये किसी की तुझे दिल में छुपा लू
न गिरने दूंगा कभी तेरी आँखों से मोती को
अपनी सारी खुशिया लुटा कर भी तेरा गम चुरा लू
वादा है न टूटेगा एक भी ख्वाब तेरा
अगर तेरा सर अपने काँधे पर रख कर तुझे सुला लू
नहीं रहा जाता अब एक भी पल तेरे बिना
तु मुझे अपना बना ले, मैं तुझे अपना बना लू

Sunday, March 17, 2013

ऐ खुदा

मेरी वफ़ाओ का ऐ खुदा बस इतना सिला दे।
उसकी मोहब्बत मेरे दिल से मिटा दे। 
न दर्द ही हो और न ही कोई तकलीफ,
मेरे दिल को बस पत्थर बना दे,
अगर दुखाया है मैंने भी दिल किसी का,
तू भी मेरी दुनिया मेरी हस्ती मिटा दे।
बहुत रह लिया मैं तनहा तनहा,
अब तो तू मेरा भी किसी को बना दे।
नींद नहीं आती है अब रातो को,
कभी न जागू बस ऐसी नींद सुला दे।

Wednesday, March 13, 2013

ऐ मेरे दिल

ऐ मेरे दिल, तू मुझसे यूँ रूठा न कर,
जो तेरे नसीब में नहीं उसे पाने की दुआ न कर।
तेरी चाहत ही मुझे कमजोर बना देती है,
तू उसे अपनी जान से भी ज्यादा चाहा न कर।
रफ्ता रफ्ता ही सही, तू उसे भूल ही जायेगा,
याद करके उसे, मुझे तड़पाने का गुनाह न कर।
अगर इतना ही दुःख होता है तुझे उसे खोने का,
तू कुछ देर रो ले, सबके सामने यूं मुस्कुराया न कर।

Monday, March 11, 2013

प्यार का ऐहसास


प्यार का ये कैसा ऐहसास है। 
दूर हो कर भी वो मेरे पास है।
अपनों की भीड़ में लगता है कुछ ऐसा,
जैसे बस एक वो ही मेरे लिए ख़ास हैं।
जब डूबा प्यार में तो लगा कुछ ऐसा,
समुन्दर के बीच में रहकर भी मुझे प्यास है।
काश वो भी चाहे मुझे इतना ही,
दिल को बस एक ये ही आस है।

Saturday, January 19, 2013

अच्छा लगता है


तू पराया भी है, और अपना भी लगता है,
तू हकीकत भी है, और सपना भी लगता है।
पता नहीं ऐसा क्या खास है तुझमे,
तेरा नाम लेना भी अच्छा लगता हैं।
तू प्यार करे मुझसे या नफरत,
तेरी हर बात को सहना भी अच्छा लगता है।
तेरे साथ मैं बैठु पल दो पल,
तेरी बातों को सुनना भी अच्छा लगता है।
मिल नहीं पाता तुमसे तो क्या हुआ,
तेरा ख्वाब में आना भी अच्छा लगता हैं।
जान भी मांग ले तू तो मना न करू,
तेरे लिए तो मर जाना भी अच्छा लगता हैं। 

Thursday, January 10, 2013

तड़प

सूख चुकी हैं आँखें, पर मैं रोना चाहता हूँ.
लगा कर किसी को गले से, आंसू बहाना चाहता हूँ.
रह रह कर क्यों गुजरा जमाना याद आता है,
भूल कर सब बातों को अब मुस्कुराना चाहता हूँ.
गैर से क्या करू शिकायत वो तो गैर ही रहे,
अब मैं खुद को भी एक बार अजमाना चाहता हूँ.
कोई लौटा दे गर मेरा गुजरा हुआ वक़्त,
मैं अपने बचपन में लौट जाना चाहता हूँ.
थक चुका हूँ जिंदगी में भाग भाग कर,
अब कुछ देर बैठ कर सस्ताना चाहता हूँ.
नींद भी नहीं आती है अब रातों को,
मैं हमेशा के लिए अब सो जाना चाहता हूँ.